Policy Violation ( Your site isn’t ready to show ads.) Fix kaise kare

क्या आपका एडसेंस एप्रूव्ड नहीं हो रहा है बार – बार Policy Violation का नोटिफिकेशन आ रहा है यदि हां तो आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना चाहिए क्योंकि इसमें मैंने policy Violation issue kaise Solve करें के बारे मे बताया है और ये क्यों आता है

अभी बहुत से ब्लॉगर है जिनका एडसेंस एप्रूव्ड नहीं हो पा रहा है सभी को google adsense की तरफ से एक ही नोटिफिकेशन मिल रहा है वो है policy Violation का सभी परेशान है की ये क्या Issue है और इसे कैसे fix किया जाए क्योंकि Google adsense ऐसे छोटे – छोटे issue को नहीं बताता है ऐसे मे ये पता कर पाना मुश्किल है की साइट मे कौन – सा Error है कहा परेशानी है

google तो उन Issue को नहीं बताता लेकिन मैं बता रहा हूँ की क्यों policy violation का Issue आता है और इसे कैसे फिक्स करें ताकि बाकि लोग ( bloggers ) एडसेंस का अप्रूवल ले सके लेकिन उससे पहले कुछ बाते जान ले

How to fix this “Your site isn’t ready to show ads because of some policy violations”?

  1. इंटरनेट, Blogging आदि टॉपिक पर एडसेंस सिर्फ अब 5% ब्लॉग को अप्रूवल देता है क्योंकि इस टॉपिक पर पहले से हज़ारो ब्लॉग है लेकिन फिर भी hard work + smart work करके अप्रूवल लिया जा सकता है
  2. Copy Content पर एडसेंस अप्रूवल नहीं देता है
  3. नए ब्लॉगर ब्लॉग बनाते है और एडसेंस के लिए अप्लाई कर देते है बिना कंटेंट बिना, Seo के यदि आप ऐसा कर रहे है तो रुक जाइए और पहले ब्लॉग को एडसेंस लायक बनाइये
  4. एडसेंस अप्रूवल लेना कोई बड़ी बात नहीं ये बहुत ही आसान है लेकिन नए ब्लॉगर जल्दबाजी करके इसे मुश्किल बना लेते है

चलिए जानते है की तो Policy violation क्यों आता है ?

एडसेंस की तरफ से Policy violation का नोटिफिकेशन आना लगभग नार्मल बात है लेकिन अधिकतर ब्लॉगर को ये issue आ रहा है इसका Main कारण है Backlink & traffic जी हां मुझे खुद ही कई बार Policy violation का नोटिफिकेशन एडसेंस की तरफ से मिल चूका है फिर भी मुझे एडसेंस का अप्रूवल मिला इसमें मैंने कुछ नहीं किया बस ब्लॉग पर रेगुलर वर्क किया

  1. Traffic : नए ब्लॉग पर ट्रैफिक ना के बराबर होता है और ब्लॉगर एडसेंस के लिए अप्लाई कर देते है हालांकि एडसेंस ये नहीं बताता की आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक नहीं है इसलिए एडसेंस disapprove हुआ है इसलिए वो Policy violation बताता है
  2. Copy Content : नए ब्लॉगर जल्दी एडसेंस अप्रूवल के चक्कर मे कंटेंट कॉपी peste करने लगते है जो की ब्लॉग के लिए अच्छा नहीं होता एडसेंस काफ़ी स्मार्ट हो चूका है वो थोड़ा सा भी Scraped content या issue हो तो adsense account disqualify कर देता hai
  3. Backlink : ब्लॉग रैंकिंग के लिए backlink भी जरुरी है चाहे वो Nofollow ही क्यों ना हो लेकिन नए ब्लॉगर के ब्लॉग मे Backlink का अता – पता ही नहीं होता और एडसेंस के लिए अप्लाई कर देते है
  4. Indexing : ऐसा बहुत से ब्लॉगर है जिनका ब्लॉग गूगल मे सही से index भी नहीं हुआ होता और एडसेंस के लिए अप्लाई कर देते है तो ऐसे मे एडसेंस किस – किस को बताए की आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक प्रॉब्लम है, तो indexing प्रॉब्लम है
  5. Regular Posting : नए ब्लॉगर ब्लॉग सेटअप के बाद एडसेंस के लिए अप्लाई कर देते है 2 -3 बार Rejection के बाद ब्लॉग पर पोस्ट करना ही छोड़ देते है
  6. Self visiting : ये आदत अधिकतर ब्लॉगर को होता है ब्लॉग बनाने के बाद खुद के ब्लॉग को हमेशा विजिट करते रहते है एडसेंस को ये बिल्कुल पसंद नहीं Adsense Rejection का एक Reason Self Visiting भी है तो एडसेंस अप्लाई करने के बाद Self Visiting बंद कर दे, और Regular Post करें

[ नोट : बहुत से ब्लॉगर का कहना है की एडसेंस के लिए ट्रैफिक, Backlink Important नहीं है लेकिन Adsense World का biggest ad Network है ऐसे मे वो भी चाहता है की सही ब्लॉग वेबसाइट को अप्रूवल दे ताकि उसे भी फायदा हो ]

अगर आप यहाँ बताए गए टिप्स को फॉलो करते है तो यक़ीनन Policy Violation issue solves हो जाएगा और हां ये बात ध्यान रखे को ज़ब तक ब्लॉग गूगल मे इंडेक्स ना हो तब तक एडसेंस के लिए अप्लाई ना करें उम्मीद है आपको ये पोस्ट पसंद आया पोस्ट से रिलेटेड कोई सवाल, सुझाव हो तो जरूर बताए इसके अलावा यदि इस पोस्ट मे बताए गए तरीका को फॉलो करने से policy violation Issue solve हो जाए तो हमें जरूर बताए

आपको लगे की ये पोस्ट वास्तव मे उपयोगी है तो इसे सोशल साइट्स पर जरूर शेयर करें

About Mr Manish

94f59f3df076a9eba56b038cf6129a0f?s=90&d=mm&r=gMy Name is manish i am the founder of this successbranch blog. the main objective this blog is to promote hindi in the world . for this, i share all kinds of information here in hindi Learn More

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.