भक्त / अंधभक्त और चमचा मे अंतर क्या है ( Bhakt or Chamcha me anter )

आज कल चमचा और अंधभक्त शब्द काफ़ी ज्यादा प्रचलित हो रहा है इसका मुख्य कारण है राजनीती ( Politics ) और इसी कारण से लोगो मे ये जानने की उत्सुकता बढ़ गई है की आखिर चमचा और अंधभक्त मे अंतर क्या है

चलिए आज कुछ हट कर जानते है यानी की चमचा और भक्त मे अंतर देखते है की आखिर दोनों मे क्या -क्या अंतर है और उनकी क्या खासियत है वैसे तो इसकी परिभाषा सभी के लिए थोड़ा – अलग हो सकता है

सबसे पहले जानते है भक्त / अंधभक्त के बारे मे इनमे क्या खासियत है

भक्त / अंधभक्त मे अंतर

भक्त वह है जो बिना किसी लालच के अपने मालिक के प्रति भक्ति रखता है वह बिना लालच के निःस्वार्थ भाव से अपने मालिक की पूजा करता है

भक्त के कोई प्रकार नहीं होते लेकिन भक्ति की भावना अलग -अलग हो सकती है उदहारण के लिए…..

1. एक पुत्र के लिए अपनी माता पिता के प्रति भक्ति
2. एक शिष्य के लिए गुरु के प्रति भक्ति
3. एक आम आदमी का अपने नायक के प्रति भक्ति

जब एक भक्त अपने ईश्वर के प्रति बहुत ज्यादा श्रदा दिखाता है तो वो है अंधभक्ति इसमें भक्त का ईश्वर चाहे कैसे भी अच्छा हो या बुरा हो इससे उनकी भक्ति मे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता बस वो अपने ईश्वर/मालिक के प्रति अपनी भक्ति बनाए रखता है

चमचा मे अंतर

चमचा वो होता है जो अपने किसी निजी स्वार्थ के लिए किसी के जी – हुज़ूरी ( तलबे चाटना ) करता है मतलब की एक बार उसका स्वार्थ पूरा हो जाए फिर वो अपनी मालिक का साथ ऐसे छोड़ता है जैसे गधे के सर से सिंग गायब होता है,

हालांकि चमचे दुबारा किसी स्वार्थ को पूरा करने के लिए अपने मालिक के पास वापस आ सकते है
एक भक्त अपने मालिक के लिए जान तक दे सकता है जबकि एक चमचा अपने मालिक को अपनी एक किडनी तक नहीं दे सकता

बस यही फ़र्क़ है भक्त / अंधभक्त और चमचा मे

और फिलहाल की राजनीति मे भक्त / अंधभक्त और चमचा शब्द का प्रयोग जोरो – शोड़ो से चल रहा है एक राजनितिक पार्टी अपने विपक्षी पार्टी पर इन्ही शब्दों का प्रयोग करते है अपनी भावना जाहिर करने के लिए…!

Note ; ये पोस्ट सिर्फ ज्ञान बढ़ाने के लिए है इसलिए आपसे नम्र निवेदन है की यहाँ पर अपनी भक्ति और चमचागिरी ना दिखाए बस पोस्ट पढ़े और अपना ज्ञान बढ़ाए यदि आपको इस पोस्ट से कोई दिक्कत है तो आप हमें बताए हम भरसक प्रयास करेंगे की आपकी दिक्कत दूर कर सके

तो उम्मीद है आप सभी समझ चुके है की भक्त / अंधभक्त और चमचा मे अंतर क्या है और कहाँ इनका ज्यादा प्रयोग किया जाता है आपको लगे की ये जानकारी Useful है तो आप इसे सोशल साइट पर जरूर शेयर करें

Share on:
About Mr Manish

My Name is manish i am the founder of this successbranch blog. the main objective this blog is to promote hindi in the world . for this, i share all kinds of information here in hindi Learn More


Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.