Multiple language – क्या एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट करना चाहिए ?

बहुत से ऐसे ब्लॉगर है जो आज भी कंफ्यूज है की क्या एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट करना चाहिए या नहीं कारण है की इस विषय मे सबका मत अलग – अलग है इसलिए ब्लॉगर कंफ्यूजन मे रहते है और इसका कोई उचित समाधान उन्हें नहीं मिल पाता है फिर एक ही ब्लॉग पर दो भाषा मे लिखें पोस्ट को पब्लिश और डिलीट करते रहते है जिससे साइट पर नेगटिव इफ़ेक्ट पड़ता है साइट के उन लिंक पर 404 एरर आने लगते है और ऐसा Seo के के लिए नुकसानदायक है

Read also ; हिंदी ब्लॉग्गिंग से महीने मे कितना कमा सकते है ?

इस पोस्ट मे इस बात का कंफ्यूजन तो जरुर दूर हो जाएगा की क्या एक ही ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट पब्लिश करना चाहिए या नहीं और इसके क्या फायदे है और क्या नुकसान है

क्या एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट करना चाहिए ?

कई प्रोफेशनल ब्लॉगर के लिखें पोस्ट मैंने पढ़े इसके अलावा गूगल डेवलपर ब्लॉग पर भी देखा वहां उन्होंने अपना opinion बताया है और उसमे उन्होंने एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट पब्लिश करना सही बताया है लेकिन इसका भी तरीका है टेक्निक है यदि उस अनुसार एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पब्लिश किया जाए तो सही है

आसान शब्दों मे कहे तो हां एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट पब्लिश कर सकते है लेकिन…उसका जो way है उसके फॉलो करे तो..

Read also ; क्या सच मे हिंदी ब्लॉग्गिंग से पैसा कमाया जा सकता है ?

Using Translate widget

किसी भी एक ब्लॉग primary domin पर आप दो भाषा मे पोस्ट पब्लिश कर तो सकते है लेकिन Seo पर नेगेटिव इफेक्ट पड़ सकता है हालांकि रीडर्स के लिए ये बढ़िया होगा

हालांकि आप किसी एक भाषा मे ब्लॉग पर पोस्ट करें और उसमे ट्रांसलेट widget ऐड कर दे तो सबसे अच्छा होगा, लेकिन यहाँ रैंक सिर्फ Main language वाला ब्लॉग ही होगा तो इससे किसी भी प्रकार के नेगेटिव इफ़ेक्ट नहीं पड़ेगा

Translate widget उपयोग करने के फायदे

ब्लॉग पर ट्रांसलेट widget use करने के सबसे ज्यादा फायदा आपको है और वो है समय की बचत, यहाँ एक भाषा मे ही पोस्ट लिखना है और उसे ब्लॉग पर डालना है जबकि एक ही ब्लॉग मे दो – अलग – अलग भाषा मे पोस्ट डाले तो इसमें ज्यादा समय लगेगा,

फिलहाल अभी ऐसा एक भी हिंदी ब्लॉग नहीं देखा है जिसपर दो भाषा मे पोस्ट किया गया हो चुकी इस बात को लेकर कंफ्यूजन है इसलिए ऐसा कोई नहीं करना चाहता |

Using Subdomin

गूगल पर कई ऐसे news website है जो सब्डोमिन का इस्तेमाल करके 2 language या उससे अधिक मे वेबसाइट चला रहे है और उनका वेबसाइट अच्छा चल रहा है बात करें ब्लॉगर की तो कोई भी ब्लॉगर एक ब्लॉग पर दो लैंग्वेज मे पोस्ट नहीं करता चुकी जितना समय एक ब्लॉग पर पोस्ट करने मे लगता है उतना मे दूसरे ब्लॉग पर पोस्ट डाल सकते है और मतलब की इतने समय मे वो दूसरा ब्लॉग हैंडल कर सकते है

यदि आप अपने ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट करना चाहते है तो एक लैंग्वेज जो main है उसे primary रखे और दूसरा Language का subdomin बनाए

दो भाषा मे एक ब्लॉग ( With Subdomin ) पर पोस्ट लिखने के फायदे

एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट डालने से शुरुआत मे ट्रैफिक बढेगा लेकिन धीरे – धीरे फिर कम हो जाएगा ऐसे बहुत से ब्लॉगर है जो सब्डोमिन के साथ ब्लॉग चला रहे है लेकिन सब्डोमिन पर दूसरी भाषा मे पोस्ट नहीं करते, क्योंकि उन्हें इसका नेगेटिव इफ़ेक्ट के बारे मे मालूम है |

दो भाषा मे एक ब्लॉग पर पोस्ट लिखने के नुकसान

  1. DE- Rank Blog – दो भाषा मे एक ब्लॉग पर पोस्ट लिखने के सबसे बड़ा नुकसान है रैंकिंग का क्योंकि ऐसे ब्लॉग की रैंकिंग बहुत कम होती है क्योंकि गूगल bot कंफ्यूज हो जाता है की किस लैंग्वेज को प्राइमरी माने और किसे नहीं ( Geotargeting के बावजूद ) तो जाहिर सी बात है रैंकिंग पर नेगेटिव इफ़ेक्ट पड़ेगा
  2. Lot of Time – एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट लिखने से समय बहुत ज्यादा लगता है इसमें, पोस्ट लिखना, इमेज बनाना, SEO करना आदि शामिल है और मेरा मानना है की ज़ब आप एक ब्लॉग पर दो लैंग्वेज मे पोस्ट करने की क्षमता रखते है तो आप एक और ब्लॉग की शुरुआत करें
  1. Less Earning – बहुत से लोगो को लगता है एक ब्लॉग पर दो लैंग्वेज मे पोस्ट करने से income ज्यादा होगा पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, क्योंकि जितना earning एक लैंग्वेज वाले ब्लॉग से होता है उतना ही दो लैंग्वेज वाले से Earning मे बदलाव नहीं होते चुकी रैंकिंग जो घटती है उसका इफ़ेक्ट Earning पर पड़ता है

और भी बहुत से नुकसान है जबकि फायदा सीमित है तो ऐसा क्यों करना एक भाषा मे ब्लॉग होता है तो उसे एक अलग ही पहचान मिलता है इसलिए Single language मे ब्लॉग चलाइये और ज्यादा ब्लॉग run करने की क्षमता रखते है तो और ब्लॉग बना लीजिये

Conclusion ;

फायदे और नुकसान तो सभी के होते है यहाँ भी है लेकिन एक फायदे के लिए 3-4 नुकसान एक साथ तो सह नहीं सकते इसलिए बेहतर होगा की बिना नुकसान वाले काम करें

उम्मीद है हमारा ये लेख एक ब्लॉग पर दो भाषा मे पोस्ट करना चाहिए या नहीं पसंद आया आपको लगे की ये पोस्ट उपयोगी है तो अपना कीमती फीडबैक जरूर दे और जरा – सा समय निकालकर सोशल साइट्स पर जरुर शेयर कर दे |

क्या आपके लिए पोस्ट उपयोगी साबित हुयी ?

Share on:
About Mr Manish

My Name is manish i am the founder of this successbranch blog. the main objective this blog is to promote hindi in the world . for this, i share all kinds of information here in hindi Learn More

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.