35 Blogging Trouble – Starting me New Bloggers ko kin – kin paresani ka Samana Karna padta hai

हैल्लो bloggers ,इस पोस्ट मे मै बता रहा हूँ newbie bloggers की परेशानियों के बारे मे जिनका सामना उन्हें शुरूआती समय मे करना पड़ता है

आज का समय डिजिटल हो चूका है जिससे सभी लोगो को ऑनलाइन वर्क ही पसंद आ रहा है ये बढ़िया भी है लेकिन किसी भी क्षेत्र मे आप तभी खुद को कामयाब बना पयोगे जब आप उस क्षेत्र से जुड़ी जानकारी रखते है उस टॉपिक ,बिज़नेस से रिलेटेड knowledge हो.

वही बात करें ब्लॉग्गिंग की तो इसमें भी यही होता है यहाँ पर आपको पूरी जानकारी नहीं भी है तो ठीक है परन्तु बेसिक जानकारी का होना अतिआवश्यक है

यदि एक बार आप यूट्यूब खोल कर बैठ जाए और उनमे blog kaise banaye कीवर्ड फाइंड करिये उसके बाद इतने वीडियो आएंगे और ऐसी – ऐसी टैग लाइन के साथ की आप कंफ्यूज हो जाओगे की किस वीडियो को देखु और किसे नहीं अगर बात किया जाए ब्लॉग और Bloggers की तो यहाँ भी आपको बेसिक जानकारी होना चाहिए उसके बाद आप regularly सीखते रहिए और इस बीच काम भी करते रहिए

लेकिन इंडियन newbie bloggers ऐसा नहीं करते उन्हें तो बस जल्दी – से – जल्दी ब्लॉग बना कर पैसे कमाने की चाहत होती है और इसके पीछे youtubers होते है उनका हद से ज्यादा मोटीवेट करने वाला वीडियो होता है वो वीडियो मे ब्लॉग से पैसे कमाने के बारे मे newbie को मोटिवेट – तो भर – भर के करते है लेकिन ब्लॉग्गिंग मे आने वाली परेशानियों का जिक्र तक नहीं करते क्योंकि उनको तो खुद की रोटियां सेकने होते है Newbie bloggers जाए भाड़ मे ,उनसे उनको क्या ? खुद का डॉलर बन रहा है बस उनका काम हो चूका !

ब्लॉग्गिंग से रिलेटेड वीडियो मे मोटिवेशन इतना भरा होता है ब्लॉग के बारे मे ,की Newibe bloggers बस ब्लॉगर पर गए और ब्लॉग बना लिया और उसके बाद other bloggers से पूछते रहते है की कमाई – क्यों नहीं हो रहा – मेरा ब्लॉग 6 मंथ पुराना है तो कोई कहता है 1 साल पुराना है आदि ऐसे सवालों की लिस्ट बन जाती है जो कभी ख़त्म ही नहीं होती

अगर बात की जाए हिन्दी bloggers की तो लगभग 3 हज़ार ( अनुमान ) से भी ज्यादा सिर्फ हिन्दी ब्लॉग की संख्या है या फिर इससे ज्यादा भी हो सकता है जिनमे से मिनिमम 1000 ब्लॉग पर ही regular ya phir weekly वर्क होता है और टॉप मे मुश्किल से 10 ब्लॉग ही है बाकि के ब्लॉग को bloggers ने बंद कर दिया है

इन सबका अलग – अलग कारण हो सकता है लेकिन इनमे से अधिक का ब्लॉग बंद करने का कारण सिर्फ एक ही हो सकता है वो है ब्लॉग से पैसा नहीं बना इसलिए ब्लॉग्गिंग छोड़ दिया या फिर उन्हें कोई टॉपिक ही नहीं मिला ब्लॉग लिखने के लिए इसलिए भी ब्लॉग छोड़ दिया ,इनका कारण हो सकता है नॉलेज का बिल्कुल भी ना होना.

इस पोस्ट मे मै उन सभी कारणों को बता रहा हूँ परेशानी को बता रहा हूँ जो newbie bloggers को स्टार्टिंग मे उनका सामना करना पड़ता है ताकी वो ब्लॉग्गिंग मे आने वाली परेशानी को भी जान सके और उसका सामना कर सके जिससे खुद को एक दिन सफल bloggers बन पाए और उनका नाम भी Top 10 bloggers की लिस्ट मे शामिल हो

न्यू bloggers को शुरुआत मे किन – किन परेशानीयों का सामना करना पड़ता है

तो चलिए शुरू करते है न्यू bloggers को शुरुआत समय मे किन – किन परेशानी का सामना करना पड़ता है ?

1.Over Motivation

bloggers-over-motivation

जैसा की मै पहले ही बता चूका हूँ की ब्लॉग बनाने का विचार उन्हें Blogs ,से बहुत कम जबकि यूट्यूब वीडियो से बहुत ज्यादा मिलता है क्योंकि यूट्यूब पर ऐसे – ऐसी टैगलाइन और वीडियो का thumbnail होता है जिससे एक बार लोग देख ले तो उसपर विजिट किए बिना नहीं रहे Sakte ,न्यू bloggers का भी यही होता है Thumbnail देख कर वीडियो देखते है उसमे उन्हें बताया जाता है की आप बिना मेहनत के सिर्फ ब्लॉग बनाकर पैसे कमा सकते है यूट्यूब वीडियो से newbie इतना मोटिवेट हो जाते है की उस बीच की जानकारी जानने मे थोड़ी भी दिलचस्पी नहीं दिखाते , और सीधे ब्लॉग बनाने लग जाते है

इसलिए ये अतिआवश्यक है की आप जोश मे आकर ब्लॉग ना बनाये सोच समझ कर बनाये ब्लॉग बनाने का मक़सद क्या है ये सभी सोच कर ब्लॉग बनाये

2. Without plan

without-any-plan-start-blogging-for-bloggers

ये भी मैंने हमेशा ही newbie को करते देखा है ब्लॉग्गिंग को लेकर कोई प्लान नहीं बनाते नतीजा यह होता है की जीतनी जल्दी ब्लॉग्गिंग की शुरुआत करते है उतनी जल्दी बंद भी कर देते है इसलिए जरुरी है की ब्लॉग बनाने से पहले उसका प्लान तैयार किए जाए ताकी जैसे ही आप ब्लॉग्गिंग मे कदम रखे धमाल मचा दो .

3. Lack of Knowledge :

newbie-bloggers-lack-of-knowledge

वैसे तो अधिकतर न्यू bloggers को ब्लॉग बनाते समय बेसिक जानकारी ही होती है वो धीरे – धीरे सीख कर खुद को डेवलप करते है लेकिन यहाँ मैंने ऐसे बहुत से ब्लोग्गेर्स को देखा की उन्हें ब्लॉग्गिंग का बेसिक नॉलेज भी नहीं होता और वो लोगो को सिखाने लग जाते है जिससे कुछ ही समय मे वो ब्लॉग्गिंग से बोरिंग महसूस करने लगते है

इसलिए जरुरी है की पहले ब्लॉग्गिंग का बेसिक नॉलेज हासिल किया जाए फिर ब्लॉग्गिंग मे कदम रखे इससे आपको फायदा यह होगा की आप ब्लॉग्गिंग मे Smart-work करेंगे और सफलता प्राप्त कर पाएंगे

4. Confusion Regarding Platform Slection;

new-bloggers-confuse-choosing-platform

ये तो लगभग सभी bloggers की परेशानी है इसके बारे मे पहले से हज़ार से भी ज्यादा पोस्ट गूगल पर उपलब्ध है यूट्यूब पर वीडियो उपलब्ध है फिर भी न्यू ब्लोग्गेर्स को ये डाउट ,या फिर कंफ्यूजन कहे रहता है की किस प्लेटफार्म पर blog banaye ताकी जल्दी रैंक करें

यदि आप न्यू है तो मै आपको suggets करूंगा की आप Blogger.com पर ही ब्लॉग बनाये,आप ब्लॉगर पर बने साइट को ही रैंक करा सकते है ,पहले के मुकाबले आज ब्लॉगर पर बने ब्लॉग काफ़ी अच्छी तरह से रैंक कर रहे है So रैंकिंग को लेकर निश्चिंत रहे और ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाये

5. Doubt About Investment

Money-investing-Confusion

ब्लॉग ब्लॉगर पर हो या वर्डप्रेस पर इन्वेस्ट दोनों प्लेटफार्म पर करना पड़ता है हालाँकि वर्डप्रेस के मुकाबले ब्लॉगर पर सिर्फ 1% money इन्वेस्ट करना पड़ता है वही बात करें वर्डप्रेस की तो इसमें पहले आपको इन्वेस्ट करना पड़ेगा जो की newbie के लिए थोड़ा कठिन है क्योंकि अधिकतर न्यू ब्लॉगर स्टूडेंट होते है जिनके पास इन्वेस्ट करने के लिए पैसे की कमी होती है इसलिए सोच समझ कर ब्लॉग्गिंग मे इन्वेस्ट करें

आप newbie है तो मेरा suggestion होगा की आप ब्लॉगर पर ब्लॉग बना कर वर्क करें

6. Create a blog

इतना सब हो जाने के बाद भी जल्दी मे वो ब्लॉगर या वर्डप्रेस पर ब्लॉग बना लेते है लेकिन बाद मे उन्हें पछतावा होने लगता है की क्यों मैंने इतना जल्दी ब्लॉग बना लिया ? क्यों मैंने इस प्लेटफार्म पर ब्लॉग बनाया ? थोड़ा सोच समझ कर बनाता तो अच्छा होता ! आदि अनेक सवाल उनके मस्तिष्क मे उठता है

इसलिए जल्दबाजी मे over motivate होकर कभी भी ब्लॉग ना बनाये जल्दबाजी मे लिया गया फैसला हमेशा ही नुकसानदायक ही होता है

7. Baisc Setting kya hai Kaise kare

ये सवाल भी नए bloggers को बहुत परेशान करती है क्योंकि ये बहुत जरुरी भी है बिना बेसिक सेटिंग के ब्लॉग को सर्च इंजन मे लाना पॉसिबल भी नहीं है इसलिए इसको लेकर bloggers परेशान रहते है

#Basic Setting kya hai kaise kare

नया ब्लॉग बनाने के बाद तो लगभग सभी तरह की सेटिंग करनी पड़ती है लेकिन basic सेटिंग सबसे पहले करनी पड़ती है

  1. Meta Description
  2. Robot.txt
  3. Logo
  4. Favicon
  5. Sitemap
  6. Search Console

ये सभी सेटिंग सबसे पहले करनी चाहिए उसके बाद आप बाकि के सेटिंग करते रहिये

लेकिन यहाँ भी लोगो को इन सभी सेटिंग के बारे जानकारी नहीं होते है हालाँकि इन सबका जवाब इंटरनेट पर उपलब्ध है वहाँ जाकर देख सकते है

8. quickly purchase domin

Quickly-purchase-domin

जल्दी डोमिन खरीदना भी newbie के लिए एक परेशानी ही है क्योंकि मैंने कई ऐसे bloggers को देखा है की जल्दी मे पॉपुलर ब्लॉग के नाम मे फेरबदल करके डोमिन खरीद लेते है और अपने ब्लॉग मे जोड़ लेते है लेकिन जैसे – जैसे उन्हें ब्लॉग्गिंग के बारे ,डोमिन के बारे मे पता चलता है वो सोचते है की क्यों मैंने ये डोमिन लिया ? अब खुद का ब्रांड कैसे बनाऊंगा और फिर इसी कंफ्यूजन मे डोमिन बदलना चाहते है जो की पूरी मेहनत पर पानी फेरने के लिए काफ़ी है

तो बेहतर यही होगा की आप डोमिन खरीदने से पहले ये अवश्य ही तय कर ले की क्या अभी डोमिन खरीदना चाहिए या फिर कुछ समय बाद खरीदना चाहिए

9. डोमिन सही Choose ना करना

जल्दबाजी मे लिया गया फैसला नुकसानदायक है और होता भी है इसलिए जब न्यू ब्लॉगर डोमिन खरीदते है तो कोई भी डोमिन खरीद लेते है ,डोमिन तो खरीद लेते है पर उन्हें उस डोमिन पर किस टॉपिक से रिलेटेड पोस्ट लिखना है वो मालूम ही नहीं होता जिससे उनको बहुत ज्यादा पछतावा होता है की काश ! थोड़ा सोच समझ कर डोमिन के बारे मे रिसर्च करके डोमिन choose करता तो कितना अच्छा होता

इसलिए जब भी ब्लॉग के लिए डोमिन लेना हो पहले डोमिन से रिलेटेड ब्लॉग पढ़े उसके बारे मे रिसर्च करें उसके बाद ही डोमिन ख़रीदे ye bhi padhe ..Domin Kharidne se pahle किन – किन बातो का ध्यान रखे

10. ब्लॉग टॉपिक का पता नहीं

डोमिन जब भी ख़रीदे ब्लॉग टॉपिक / niche से रिलेटेड ही ख़रीदे,इससे होता है की आप का ब्लॉग थोड़ा जल्दी रैंक होता है और रीडर्स ब्लॉग के प्रति एक विश्वास बनता है वो Sure होते है की इस टॉपिक से रिलेटेड जानकारी इस ब्लॉग पे मिलेगा और फिर साइट को अपनी पसंदीदा साइट की लिस्ट मे जोड़ लेते है

गूगल भी ऐसे साइट पर ज्यादा ध्यान देता है इसलिए ये बात हमेशा ही याद रखे की जिस टॉपिक पर आप ब्लॉग की शुरुआत कर रहे है उसी टॉपिक से रिलेटेड डोमिन भी होना चाहिए ye bhi padhe ; ब्लॉग किस टॉपिक पर बनाए

Suggestion : जब तक आप ब्लॉग टॉपिक खोज ना ले तब ब्लॉग ना बनाये और ना ही डोमिन ना ख़रीदे

11. Same topic :

न्यू bloggers हमेशा यही करते है वो कुछ डिफरेंट टॉपिक choose करने के बजाये पहले से जिस टॉपिक पर हज़ारो ब्लॉग है उसी टॉपिक पर ब्लॉग बना लेते है जिससे उनका साइट रैंक नहीं होता और रैंकिंग की प्रॉब्लम होती है

इसलिए बेहतर होगा की आप कुछ डिफरेंट टॉपिक choose करें यदि same टॉपिक भी choose कर रहे है तो ये ध्यान दे की उस टॉपिक पर पहले से कितना ब्लॉग है यदि कम है तो उस टॉपिक पर ब्लॉग बनाये नहीं तो कोई और टॉपिक find करें

12. पहले से कॉम्पीटिशन वाले टॉपिक पर पोस्ट लिखना

न्यू bloggers हमेशा ही पहले से उपलब्ध टॉपिक पर ही पोस्ट लिखते है जो रैंकिंग मे प्रॉब्लम खड़ी करती है उनका मानना होता है की इस पोस्ट पर उनके ब्लॉग पर ट्रैफिक आ रहा है तो मेरे ब्लॉग पर क्यों नहीं आएगा और इसी सोच को जारी रखते हुए same टॉपिक पर ब्लॉग पोस्ट लिखना शुरू कर देते है

वो इस बात पर तनिक भी ध्यान नहीं देते की वो ब्लॉग पुराना है और रैंकिंग मे अपना स्थान बना चूका है जबकि आपका ब्लॉग नया है उसे रैंकिंग के लिए बहुत हार्ड वर्क करना पड़ेगा यूजर हमेशा कुछ नया जानना चाहते है घिसे – पिटे और पहले से उपलब्ध जानकारी तो उनको और भी ब्लॉग पर मिल जाते है वही यदि कुछ न्यू जानकारी उनको आपके ब्लॉग पर मिले तो वो आपके ब्लॉग पर आने लगेंगे

इसलिए हमेशा कुछ नया करने की कोशिश करें

13. शार्ट ( छोटा ) पोस्ट लिखना

जल्दी – जल्दी ट्रैफिक पाने ,रैंकिंग पाने और एडसेंस अप्रूवल पाने के लिए छोटा पोस्ट लिखना शुरू कर देते है जो शुरुआती ब्लॉग के लिए बिल्कुल भी सही नहीं है ज़ब आपका ब्लॉग नया हो तो आपको जरुरी है की आप जो भी पोस्ट लिखें उसमे एक – एक ऐसा लिखें जिसे पढ़ कर यूजर उस पोस्ट के बारे मे सोचने को मजबूर हो जाए , कहने का मतलब है की यूनिक पोस्ट लिखें

Suggesstion : नया ब्लॉग है तो कम – से – कम 800 से ऊपर शब्दों का पोस्ट लिखें

14. पोस्ट लिखने के लिए आईडिया नहीं आ रहा

Not-getting-ideas

न्यू bloggers को ये सवाल ब्लॉग शुरू करने के कुछ समय बाद से ही सताने लगता है की किस टॉपिक पर पोस्ट लिखा जाए कैसे लिखा जाए आदि ,इन सभी का एक ही कारण है इंट्रेस्ट का टॉपिक नहीं चुनना जी हां यदि आप इंट्रेस्ट का टॉपिक choose करते तो आपको पोस्ट लिखने के लिए ideas की कमी ही ना होती इसलिए जब भी ब्लॉग बनाये इंट्रेस्ट का टॉपिक choose करें Read also ; Blogger Blog Post ke liye Unique idea kaha Se Laye

suggestion : पोस्ट लिखने के लिए Ideas लेना है तो आप क्वेश्चन आंसर साइट ज्वाइन करें वहाँ आपको अपने टॉपिक के अनुसार क्वेश्चन मिल जायेंगे जिसपर आप पोस्ट लिख सकते है

15. Regular Posting & Updating

इस बात को लेकर newbie bloggers को बहुत ज्यादा कंफ्यूजन रहता है की रेगुलर पोस्ट किया जाए या नहीं यदि हां तो रेगुलर पोस्ट करने के क्या फायदे है

लेकिन Newbie bloggers को रेगुलर पोस्ट करना चाहिए ताकी गूगल को भी पता चले की ये साइट live है जिससे वो आपके साइट को रैंक करे रेगुलर पोस्ट से साइट को बहुत ज्यादा फायदा है एक तो रेगुलर पोस्ट करने से रीडर्स को लगेगा की इस पर डेली नया पब्लिश होता है जिससे वो आपके साइट पर विजिट करेंगे

इसलिए जरुरी है ब्लॉग को रेगुलर अपडेट रखना वैसे मैंने इस पर एक आर्टिकल लिखा हुआ है आप उसे यहाँ से पढ़ सकते है ब्लॉग रेगुलर अपडेट करने के फायदे

16. Image kaha se download kare

Where-to-download-image

हां ये भी नए bloggers का बहुत बड़ी परेशानी है ज़ब भी वो कोई पोस्ट लिखते है तो उस पोस्ट से रिलेटेड इमेज खोजने लगते है क्योंकि उन्हें खुद इमेज बनाना नहीं आता और जो इमेज गूगल पर अवेलेबल है वो किसी साइट से लिंक्ड है जिसे इस्तेमाल करने पर कॉपीराइट का issue आ जाता है

कॉपीराइट वाला फोटो क्यों नहीं यूज़ करना चाहिए

एक घटना याद आ गया जो मेरे ब्लॉगर मित्र के साथ घट चूका है मै आप सब को बताना चाहता हूँ ताकी आप भी किसी धमकी के चक्कर मे फ़्रॉड का शिकार ना हो जाए

मेरे मित्र का कहना था की मैंने गूगल से एक फोटो डाउनलोड करके अपने ब्लॉग मे इस्तेमाल किया जिसे उसके ओरिजिनल owner ने देखा और वो अब मुझे ट्विटर पर ब्लैकमेल कर रहा है वो बोल रहा है की आप मुझे $100 दो नहीं दोगे तो मै बहुत कुछ कर सकता हूँ मैंने उसका फोटो भी पोस्ट से रिमूव कर दिया फिर भी वो मुझे बार – बार मैसेज कर रहा है

फिर मेरे मित्र ने मुझे बताया मैंने सुना तो उन्हें बताया की आप उनको कुछ भी ना दे और उन्हें समझाया की ये लोग फ़्रॉड होते है ऐसे लोगो की बातो मे ना आए फिर उसके बाद मेरे मित्र ने उसकी बात को इग्नोर करना शुरू कर दिया कुछ समय बाद डॉलर मांगने वाला गायब हो गया

यदि आप लोगो के साथ ऐसी कोई बात हो तो घबराये नहीं उनकी बातो मे ना आए वो यदि कुछ कहे तो आप उनकी बातो को इग्नोर कर दे अगर ज्यादा परेशान करे तो ऑनलाइन शिकायत दर्ज़ करा दे !

बिना कॉपीराइट वाले फोटो की कमी नहीं है गूगल पर बस जरुरत है उसे सही तरीके से खोजने की आप बिना कॉपीराइट का फोटो नीचे बताए गए साइट से डाउनलोड कर सकते है

Pixway
Pixel
Unplash
Dreamstime
alamy

गूगल पर अवेलेबल फोटो कैसे इस्तेमाल करें

यदि आप गूगल पर उपलब्ध कोई फोटो अपने ब्लॉग पोस्ट मे यूज़ करना चाहते है तो यूज़ डाउनलोड कर ले उसके बाद उसे थोड़ा – बहुत बदलाव करें एडिट करके उसके बाद यूज़ करें

17. Image Size kitna rakhna chahiye

Image-Size

अधिकतर न्यू bloggers के साथ ये परेशानी जरूर होती है की ब्लॉग पोस्ट मे किस साइज का इमेज यूज़ करुँ वैसे तो ये टेम्पलेट पर डिपेंड करता है लेकिन फिर भी कुछ साइज आप देख सकते है

720×390
750× 400
800×400
600×400
700×400

यदि आप फेसबुक पर ब्लॉग पोस्ट का पूरा thumbnail show करवाना चाहते है तो 600×314 और 1200×628 सही है बाकि आप अपने अनुसार भी इमेज साइज सेट कर सकते है

18. सर्च कंसोल को ही कम्पलीट Seo समझना

जैसा की मै हर एक पॉइंट मे मै कह रहा हूँ की newbie bloggers की ये परेशानी है जब वो ब्लॉग स्टार्ट करते है तब की जब ब्लॉग बना लेते है कुछ पोस्ट भी लिख देते है इतना सब करने के बाद भी उनका ब्लॉग गूगल मे show नहीं होता है तब रिसर्च शुरू करते है की मेरा ब्लॉग गूगल मे क्यों नहीं दिख रहा है रिसर्च करते वक्त ही पता चलता है जब तक साइट को सर्च कंसोल मे सबमिट नहीं करते साइट गूगल मे नहीं दिखते

जिसमे तत्परता दिखाते हुए जल्दी से सर्च कंसोल मे साइट सबमिट करते है उसके बाद sitemap भी सबमिट कर देते है अब निश्चिंत हो जाते है और फिर ब्लॉग पर पोस्टिंग चालू कर देते है क्योंकि उन्हें लगता है उन्होंने कम्पलीटी Seo कर लिया अपने साइट का ,लेकिन इस बात पर उनका ध्यान तब जाता है ज़ब गूगल मे उनका पोस्ट दिखाई नहीं देता और ब्लॉग पर ट्रैफिक ना की संख्या मे होते है

तब उन्हें समझ आता है की अभी जो मैंने किया है वो Seo का एक फीचर है अभी तो पूरी की पूरी सेटिंग बाकि ही है और तब वो Seo के बारे मे रिसर्च शुरू करते है फिर धीरे – धीरे Seo पर फोकस करते है

19. सही थीम Choose करने मे परेशानी

सर्च कंसोल सबमिशन के बाद उनका ध्यान साइट के डिज़ाइन पर जाता है जिसके लिए new bloggers दिन भर ब्लॉग के लिए थीम ढूंढ़ते रहते है ऐसे मे कई टेम्पलेट डाउनलोड इनस्टॉल और रिमूव कर देते है लेकिन एक सही टेम्पलेट सलेक्ट नहीं कर पाते ,Read also ; ब्लॉगर के लिए टेम्पलेट कैसे और कहाँ से डाउनलोड करें , top 10 free themes for wordpress available in wordpress directory

जिससे उनका समय तो ख़राब होता ही है साथ ही उनकी खोज भी पूरी नहीं होती

20. बार – बार थीम बदलना

फाइनली थीम सर्च करते – करते कोई पसंद आ गया तो उसे साइट मे लगा दिया लेकिन कुछ दिन बाद ही उन्हें वो डिज़ाइन बेकार लगने लगता है और फिर से थीम खोजना और वापस अपलोड करने का सील – सिला शुरू कर देते है

जिससे फिर से ब्लॉग से उनका ध्यान भटक जाता है की मुझे मनपसंद थीम नहीं मिला और वो मनपसंद थीम के चक्कर मे प्रीमियम थीम खरीद लेते है जो एक तरह से new bloggers के लिए पैसे की बर्बादी है

Suggestion: यदि आप blogger.com पर ब्लॉग्गिंग कर रहे है तो प्रीमियम थीम ना ले यदि ले भी तो soratemplate जैसे साइट से ले ताकी फ़्रॉड का शिकार ना हो

20. Website Design kaisa Rakhe

Size-design

थीम सलेक्शन के बाद आता है साइट डिज़ाइनिंग की परेशानी , आपकी जानकारी के लिए बता दे की साइट का डिज़ाइन ही उसे एक ब्रांड बनाता है इसलिए जरुरी है की साइट को बेहतर तरीके से डिज़ाइन किया जाए ताकी यूजर एक बार विजिट कर ले तो उसे बार – बार विजिट करने का मन करें

But ,Newbie bloggers जिन्हे डिज़ाइन के बारे मे पता नहीं होता जिससे वो अपने साइट पर डिफ़ॉल्ट थीम ही यूज़ करते है हालाँकि डिफ़ॉल्ट डिज़ाइन भी बढ़िया है लेकिन जैसे – जैसे ब्लॉग्गिंग का सफर बढे वैसे – वैसे आप सीख कर साइट को ज्यादा अट्रैक्टिव बनाते जाइये ,कहने का मतलब है की शुरुआत मे डिफ़ॉल्ट डिज़ाइन ही बेटर है हां उसमे से कुछ एक्स्ट्रा widget रिमूव जरुर कर दे ,और जरुरी के widgets को लगा ले

इससे साइट का look अच्छा लगता है

Suggestion : स्टार्टिंग मे डिफ़ॉल्ट थीम डिज़ाइन भी बढ़िया है यदि आपको Coding की नॉलेज है तो साइट डिज़ाइन कर सकते है लेकिन नहीं है तो डिफाल्ट डिज़ाइन पर ही वर्क करें

21. Free / premium kya Use kare

Free-vs-Premium-image

कई सारे bloggers को ये कंफ्यूजन रहता है की फ्री थीम इस्तेमाल करें की प्रीमियम ,यदि फ्री इस्तेमाल करुँ तो इससे क्या नुकसान हो सकता है और यदि प्रीमियम यूज़ करुँ तो क्या फायदा हो सकता है कुछ ब्लॉगर तो इस बात को लेकर भी चिंता मे रहते है की प्रीमियम थीम से साइट जल्दी रैंक करता है जबकि फ्री से उतना नहीं

उन सभी के लिए मेरा जवाब है थीम से रैंकिंग का कोई लेना – देना नहीं है चाहे वो फ्री हो या प्रीमियम दोनों की रैंकिंग Same ही होती है हालाँकि फ्री थीम मे ऐसे बहुत से फीचर होते है जिसे आप हटा नहीं सकते जिस कारण से लोग फ्री थीम यूज़ नहीं करना चाहते ,वही बात करे प्रीमियम थीम की तो उसे अपने अनुसार कस्टमाइज कर सकते है उसके कुछ ऐसे फीचर जिसे फ्री वाले मे नहीं हटा सकते प्रीमियम वर्शन मे आसानी से हटा सकते है

Suggestion : यदि आप new bloggers है और तो आप फ्री वर्शन ही यूज़ करें

23. दूसरे साइट की डिज़ाइन कॉपी करने का मकसद रखना

इंडियन हिन्दी bloggers की खासियत है दूसरे पॉपुलर साइट के डिज़ाइन का कॉपी करना,ऐसे बहुत से ब्लॉगर है जो खुद का डिज़ाइन बनाने के बजाये दूसरे साइट का डिज़ाइन कॉपी करते है इस लाइन मे नए ब्लॉगर भी शामिल हो जाते है और उसी तरह की थीम खोजने लगते है

जो की बिल्कुल भी सही नहीं है नए ब्लॉगर को कुछ अलग डिज़ाइन करना चाहिए ताकी रीडर्स उनके ब्लॉग से जुड़ सके. कुछ ऐसा करें की लोग उनका डिज़ाइन कॉपी करें

Suggestion : किसी का डिज़ाइन कॉपी करने के बजाये खुद का एक नया डिज़ाइन क्रिएट करें

24. एडसेंस अप्रूवल की परेशानी

Adsense-approve-kaise-karaye

ब्लॉग बना लेने के बाद उसकी सेटिंग कम्पलीट करने के बाद आती है उनकी सबसे बड़ी परेशानी और वो है Bloggers का इनकम का जरिया जिसे एडसेंस कहते है 😃 नए ब्लॉगर 10 -15 पोस्ट लिखने के बाद एडसेंस के लिए अप्लाई कर देते है हालाँकि कुछ समय से मै ये देख रहा हूँ की नए ब्लॉग बनाने वाले अधिकतर bloggers को एडसेंस का अप्रूवल नहीं मिल रहा है रीज़न है वही ,unique Content का नहीं होना ,ट्रैफिक का नहीं होना ,साइट डिज़ाइन का नहीं होना ,बस यही रीज़न है

जो लोग इन 3 Reason को समझ जाते है उन्हें अप्रूवल मिल जाता है और जो इसे इग्नोर करते है वो अप्रूवल के लिए बार – बार अप्लाई करते रहते है

एडसेंस अप्रूवल कोई बड़ी बात नहीं बहुत ही easy है बस आप उसकी पॉलिसी को फॉलो करके पोस्ट लिखें तो उसकी पॉलिसी के अनुसार ब्लॉग Run करें तो आप यहाँ एडसेंस की कंटेंट पॉलिसी पढ़ सकते है इसके अलावा भी फ़ास्ट एडसेंस अप्रूवल के कुछ पोस्ट पढ़ सकते है

Suggestion : बिना ट्रैफिक के एडसेंस अप्रूवल लेने का कोई फायदा नहीं एडसेंस एप्रूव्ड हो भी जाता है और ट्रैफिक नहीं है तो इनकम नहीं होगा ,और इस बीच आप अपने ब्लॉग पर कुछ ऐसा पोस्ट कर दिया जो एडसेंस के नीति के खिलाफ है तो एडसेंस डिसेबल हो जायेगा ,फिर क्या फायदा ऐसे एडसेंस का जिसका अप्रूवल के बाद भी बिना इनकम के डिसएबल हो गया so better है की आप थोड़ा traffic gain कर ले उसके बाद एडसेंस के लिए अप्लाई करें

25. Traffic kaise badhaye

Apne-blog-per-traffic-laye

ये तो नया हो पुराना सभी हिन्दी bloggers की परेशानी है की मेरे ब्लॉग इतना पुराना है तो इतने पोस्ट है फिर भी ट्रैफिक नहीं आ रहा ,इसे लेकर नए bloggers सबसे ज्यादा परेशान होते है की कैसे अधिक ट्रैफिक ब्लॉग पर लाया जाए ,वैसे ट्रैफिक कैसे बढ़ाये से रिलेटेड बहुत सारे पोस्ट है आप उन्हें पढ़े

इसके अलावा आप 3 तरीके पर ज्यादा फोकस करो तो आपके ब्लॉग पर अधिक ट्रैफिक gain करने मे आपकी मदद करेगा

  1. यूट्यूब
    खुद का यूट्यूब चैनल बनाये उसमे वीडियो के साथ ब्लॉग का लिंक डाले इससे यूट्यूब के viewers आपके ब्लॉग पर भी विजिट करेंगे
  2. Photo
    ऐसे बहुत से वेबसाइट है जहाँ पर आप खुद के द्वारा बनाये गए फोटो को डाल दे साथ ही ब्लॉग का लिंक भी इससे जो लोग आपके इमेज को देखेंगे वो ऐसे इमेज डाउनलोड करने के लिए आपके साइट पर जरुरत विजिट करेंगे जिससे आपके साइट पर ट्रैफिक बढेगा
  3. क्वेश्चन आंसर साइट
    हां इंटरनेट पर ऐसे बहुत से क्वेश्चन आंसर साइट है जहाँ लोग एक दूसरे के सवाल का जवाब देते है आप भी ज्वाइन करे और लोगो के सवालों का जवाब दे ,यदि सवाल से रिलेटेड पोस्ट आपके ब्लॉग पर हो तो उसका लिंक जवाब मे ऐड कर दे

ये तीन तरीका सबसे बेस्ट है ट्रैफिक बढ़ाने का

और ट्रैफिक के लिए ज्यादा परेशान ना हो आप ब्लॉग पर यूनिक कंटेंट डालिये ट्रैफिक आटोमेटिक आने लगेगा इसके लिए टेंशन लेने की जरुरत नहीं है

26. फेसबुक ब्लॉक साइट Url से परेशानी

ट्रैफिक पाने के लिया ब्लॉगर सोशल मीडिया साइट फेसबुक का इस्तेमाल करते है जहाँ से अनलिमिटेड ट्रैफिक प्राप्त किया जा सकता है लेकिन इसके भी कुछ नीति और नियम है उसी के तहत इसपर ब्लॉग लिंक शेयर करना होता है लेकिन नए ब्लॉगर को नहीं मालूम होता ,और ना ही वो इसे जानने की जरुरत समझते है

और लगातार ब्लॉग का लिंक फेसबुक पर शेयर करने लगते है जिससे फेसबुक ब्लॉग Url block कर देता है इसलिए जरुरी है की पहले Fb की Link share की नीति को जान लेना

Suggestion : नया ब्लॉग हो तो फेसबुक पर लिंक शेयर ना करें कुछ महीने बाद शेयर करना शुरू करें यदि शेयर करना जरुरी है तो लिंक shortner का यूज़ करें

27. Quickly backlink kaise banaye

Backlink-kaise-banaye

नए bloggers के ब्लॉग पर ट्रैफिक ना आने के बाद उनको पता चलता है की ट्रैफिक के लिए पोस्ट का रैंक होना जरुरी है और पोस्ट रैंकिंग के लिए जरुरी है बैकलिंक ये भी पढ़े ,Backlink kya hai ?,backlink kaise banaye ?और तब वो बैकलिंक बनाना शुरू करते है इसके लिए लगातार दूसरे साइट पर कमेंट करते है ,प्रोफाइल द्वारा बैकलिंक बनाते है ,bookmarking साइट यूज़ करते है

आज ये सब किया और कल चेक करने लगते है की बैकलिंक बना या नहीं ,ऐसा नहीं होता है मित्र बैकलिंक इंडेक्स मे कुछ समय लगता है और साइट रैंक करने मे भी इसलिए लगन से ब्लॉग पर काम करते रहिए बैकलिंक बनाने का नया – नया तरीका खोजिये और बैकलिंक बनाइये

Suggestion : बैकलिंक बनाने से आप उस साइट का स्पैम स्कोर ,और साइट के बारे मे जरूर चेक कर ले जिससे आप बैकलिंक बना रहे है कही ऐसा ना हो की आप रैंकिंग के लिए बैकलिंक बना रहे हो और रैंक होने के बजाय जितना रैंक है वो भी ख़त्म हो जाए ,तो जितना हो सके safe तरीका से बैकलिंक बनाए

28. बार – बार ट्रैफिक चेक करना

जैसे ही बैकलिंक बनाते है उसके बाद वो ब्लॉग पर ट्रैफिक ‘चेक करने लगते है रैंकिंग चेक करने लगते है जो की बिल्कुल गलत है

जब आप ब्लॉग्गिंग मे कदम रख ही चुके है तो थोड़ा धैर्य रखिये ट्रैफिक, पैसा सब मिलेगा बस थोड़ा इंतजार करें और हार्ड वर्क करते रहे ,बार – बार ट्रैफिक चेक ना करें इससे आप खुद को demotivate करोगे और ब्लॉग्गिंग छोड़ भी सकते है जिससे पहले आपने जितना मेहनत किया वो सब बेकार चला जायेगा

29. छोटी – से छोटी परेशानी के लिए भी bloggers कम्युनिटी मे पोस्ट करना

नए bloggers की सबसे बड़ी गलती यही है वो छोटे – से – छोटे प्रॉब्लम के लिए भी bloggers की कम्युनिटी मे पोस्ट कर देते है और उन्हें प्रॉब्लम का सलूशन मिल भी ज्यादा लेकिन ,यदि आप खुद से पहले उसके बारे मे गूगल ,यूट्यूब पर खोजते तो जरुर मिल जाता इससे आपको कुछ नया सीखने को भी मिल जाता और आपकी समस्या का समाधान भी हो जाता लेकिन वो ऐसा नहीं करते

कई bloggers का कहना है की मै कई टॉपिक से रिलेटेड प्रॉब्लम का सलूशन खोजता तो हूँ लेकिन मिलता नहीं है इसका सीधा सा कारण है आप सही से खोजते नहीं आपको फाइंड करने का तरीका नहीं मालूम ,इसलिए जरुरी है की जैसे ही ब्लॉग्गिंग की शुरुआत करें

एक – एक टॉपिक के बारे मे रिसर्च करना शुरू कर दे इससे आपका नॉलेज भी बढेगा इसके अलावा आप उस जानकारी से दुसरो लोगो की मदद भी कर पाओगे,फिर आपको किसी कम्युनिटी की जरुरत नहीं

Suggestion : जितना हो सके ब्लॉग्गिंग के बारे मे जानने और सीखने की कोशिश करें

30. Quickly Paisa kaise kamaye

Quickly-paise-kamane-ki-chahat

😃😃 आज के समय मे जितने भी लोग ब्लॉग्गिंग की शुरुआत कर रहे है वो पैसे के लिए ही ब्लॉग्गिंग कर रहे है या यू कहुँ की पैसे को ही टार्गेट करके ब्लॉग्गिंग कर रहे है इसमें कुछ लोग सफल हो भी रहे है और अधिकतर लोग ब्लॉग्गिंग छोड़ रहे है इसका स्पष्ट कारण है वो ब्लॉग्गिंग से जल्दी पैसा नहीं कमा पाए

नहीं कमाने का कारण

ब्लॉग्गिंग से पैसे कमाने के लिए कम -से – कम एक साल लग जाते है और यही सच्चाई भी है लेकिन इसे कोई बताना नहीं चाहता ,और ना ही बताते है सभी कहते है की आप 3 महीने – 6 महीने मे ब्लॉग्गिंग से पैसा कमा सकते है लेकिन नए bloggers के लिए ये पॉसिबल नहीं है

क्योंकि कॉम्पीटिशन बहुत ज्यादा है और नए bloggers घिसे – पिटे टॉपिक पर ही ब्लॉग शुरू कर रहे है जिसपर पहले अनगिनत ब्लॉग बने हुए है उनमे से भी कुछ ऐसे ब्लॉग है जो नाम के है इनकम का अता – पता तक नहीं है

फिर भी वो ब्लॉग पर काम कर रहे है क्योंकि उन्होंने पैसे को टार्गेट करके ब्लॉग नहीं बनाया बल्कि उन्होने पैशन को टार्गेट करके ब्लॉग बनाया और उन्हें उम्मीद है की वो अपने ब्लॉग को वो ब्रांड बना पाएंगे

मै नए bloggers को यही कहना चाहता हूँ की आप ट्रैफिक और पैसे की चिंता छोड़कर ब्लॉग पर भरपूर मेहनत करिये ,उससे पैसे कमाने का टार्गेट नहीं उसे ब्रांड बनाने का लक्ष्य रखे फिर तो ट्रैफिक और पैसा दोनों आपको अनुसार आएंगे आप जैसे चाहोगे वैसे आएंगे

Suggestion : ब्लॉग से पैसे कमाने का लक्ष्य ना रखे , ब्लॉग को ब्रांड बनाने का लक्ष्य रहे पैसा आपके अनुसार आएगा आप जैसे चाहे वैसे 💲

31. ADSENSE alternative site

Adsense-alternative

ब्लॉग हिन्दी लैंग्वेज मे हो या इंग्लिश या फिर कोई थर्ड लैंग्वेज उन सभी का इनकम का Main Source है एडसेंस जिसका पॉलिसी सख्त है कहने का मतलब उसकी पॉलिसी के अंतर्गत आपका ब्लॉग है तो वो अप्रूवल देगा नहीं है तो सिर्फ रिजेक्शन ही मिलेगा

एडसेंस कब किसका अकाउंट डिसएबल कर दे कोई गारंटी नहीं ऐसे मे बहुत से bloggers है जो एडसेंस के alternative Publisher साइट खोजते रहते है Read also : Google Adsense Keya hai , New Blogger Blog website Banane ke Baad Adsense ke Liye Apply kab kare, Fast adsense approvel trick in hindi

एडसेंस के alternative साइट तो बहुत है लेकिन Income $0.0 ही होता है यदि कुछ वेबसाइट सही मिल भी जाती है तो उसका ad ब्लॉग मे लगाने के लायक नहीं होता क्योंकि यदि उसका ad लगाया तो खुद के ब्लॉग से भी हाथ धोना पड़ जाता है

वैसे तो ऑनलाइन इनकम के बहुत से source है और एडसेंस से कही ज्यादा उससे कमा सकते है लेकिन यहाँ नए bloggers की बात हो रही है इसलिए इस टॉपिक पर बात नहीं करूंगा

एडसेंस के alternative कुछ Publisher वेबसाइट है

  • Media.net ( Only English Language Supporting )
  • Adnow ( Many language )
  • Infolinks
  • Popads
  • propler ads
  • Adsterra
  • Taboola
  • Mgid

ये कुछ साइट है जो एडसेंस के alternative है लेकिन इससे इनकम के लिए ब्लॉग पर high traffic चाहिए चाहिए जो नए bloggers ke ब्लॉग पर नहीं होता

Suggestion : आप नए bloggers है तो बेशक़ इनमे से कुछ साइट से अप्रूवल लेनी चाहिए इससे आपको पता चल जायेगा की ब्लॉग एडसेंस अप्रूवल के लायक है भी या नहीं .

32. Url shortner se paisa kama sakte hai

नए bloggers मे ब्लॉग से पैसा कमाने का ये तरीका भी ट्रेंडिंग मे है हालाँकि इससे शायद ही किसने पैसा कमाया होगा पर bloggers को ये सुझाव दे देते है की Url Shortner Use कीजिये इससे अच्छा पैसा कमा सकते है

जिससे नए ब्लॉगर Realy me paid करने वाली Url Shortner वेबसाइट की खोज मे लगे रहते है कुछ साइट मिल भी जाती है लेकिन इनकम $0.0 ही होता है

उल्टा ब्लॉग की ट्रैफिक भी कम होने लगता है इसका स्पष्ट reason है Url Redirect होना जैसा की आप जानते है की Url shortner paid वाली से Url short करके ब्लॉग मे लगाने से ब्लॉग पोस्ट ना खुलकर Url Shortner अपने बनाए हुए पेज पर Redirect करता है दो – तीन बार back करने पर ब्लॉग पोस्ट पर रीडर्स पहुंचते है जो उन्हें अच्छा नहीं लगता और उस ब्लॉग पर विजिट करना बंद कर देते है

Suggestion : paid url Shortner वेबसाइट से कभी Url शार्ट ना करें वर्ना लेने के देने पढ़ सकते है

33. एडसेंस Buy करे या ना करें

कुछ नए bloggers जो की इन्वेस्ट करना क्षमता रखते है जिन्हे एडसेंस अप्रूवल ना मिलता है तो वो एडसेंस अकाउंट खरीद लेते है कभी – कभी उन्हें फायदा मिलता है तो कभी – उन्हें नुकसान

Suggestion : एडसेंस कभी भी buy ना करें ये पैसे की बर्बादी है और इसमें आपकी एक कमजोरी भी दिखती है और वो है खुद पर विश्वास नहीं होना ,कॉंफिडेंट नहीं होना ,ब्लॉग्गिंग के बारे मे जानकारी नहीं है जिससे आप एडसेंस buy कर रहे है आदि अनेक reason है इसलिए एडसेंस कभी buy ना करें खुद के दम पर अप्रूवल ले

अप्रूवल लेना कोई बड़ी बात नहीं बस इसके पॉलिसी को थोड़ा – समझना पड़ता है फिर एडसेंस का अप्रूवल आसानी से मिल जाता है

34. क्या करुँ

What-to-do-what-not-to-do

लास्ट पॉइंट यदि new bloggers सभी परेशानी से खुद को उबार लेते है तो यक़ीनन वो ब्लॉग्गिंग मे कुछ हद तक सफलता प्राप्त कर चुके है लेकिन इस स्थिति मे आकर ब्लॉग्गिंग छोड़ देते है

उन्हें ( new bloggers ) लगता है की मेरा इतना समय बेकार गया अब ब्लॉग्गिंग से पैसा नहीं कमाया जा सकते और इस सवाल का जवाब दूसरे लोगो से करने लगते है की मैंने इतना टाइम ब्लॉग्गिंग को दिया लेकिन ब्लॉग्गिंग से कुछ नहीं मिला क्या करुँ ब्लॉग्गिंग छोड़ दूँ

इस स्थिति मे थोड़ा संयम बरतें और हो सके तो कुछ समय तक ब्लॉग्गिंग छोड़ दे ,उसके बाद आपको खुद समझ आ जायेगा की ब्लॉग्गिंग कंटिन्यू करनी है या नहीं

तो ये है नए bloggers की स्टार्टिंग मे आने वाली परेशानी की लिस्ट वैसे तो ये लिस्ट और भी लम्बा हो सकता है लेकिन मुझे ये सभी पॉइंट महत्वपूर्ण लगा इसलिए आपको यहाँ बताया आपको लगता है की इसमें कुछ और पॉइंट भी शामिल किया जा सकता है तो हमें आप जरुर बताए ताकी उसे इस पोस्ट मे शामिल कर सके

Extra Tips : ब्लॉग्गिंग का कोई शार्ट – कट नहीं है इसलिए सोच समझ कर ही ब्लॉग्गिंग मे कदम रखे ,और हां Youtber और उनकी वीडियो के झांसे मे न आए

उम्मीद करता हूँ दोस्तों ,मैंने इस पोस्ट मे नए bloggers की परेशानी जो उन्हें ब्लॉग्गिंग के शुरुआत समय मे होती है उनसे अवगत कराया इससे रिलेटेड कोई भी सवाल हो तो आप हमें जरूर बताए उसे इग्नोर बिल्कुल भी ना करें क्योंकि ये पोस्ट हमने आपके लिए ही लिखा है तो आपकी जो भी परेशानी हो आप हमारे साथ डिस्कशन कर सकते है

हम उसे मिलकर हल करने की कोशिश करेंगे ताकी इंडिया मे ब्लॉगर की कमी ना हो और indian bloggers का भी नाम हो ब्लॉगर खुद को ब्लॉग्गिंग मे स्थापित कर सके

पोस्ट पसंद आए तो अपना फीडबैक देना ना भूले आपको लगे की वास्तव मे ये पोस्ट उपयोगी है तो इसे सोशल साइट्स पर जरुर शेयर करें

About Mr Manish

94f59f3df076a9eba56b038cf6129a0f?s=90&d=mm&r=gMy Name is manish i am the founder of this successbranch blog. the main objective this blog is to promote hindi in the world . for this, i share all kinds of information here in hindi Learn More

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.